दिल्ली की शिक्षा माॅडल पर आप और भाजपा के बीच छिड़ी जंग

image
Description

सुमन कुमार मल्लिक

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार अपने ‘शिक्षा मॉडल’ को सबसे बेहतर बताती रही है। वह इसी के सहारे दोबारा जनता का समर्थन पाने की रणनीति पर भी काम कर रही है। यही कारण है कि उसका शिक्षा मॉडल अब विपक्ष के निशाने पर है। भाजपा नेता जेपी नड्डा के द्वारा दिल्ली सरकार के शिक्षा मॉडल को फेल बताए जाने पर दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने उन्हें चैलेंज किया है कि वे किसी भी भाजपा शासित राज्य के स्कूलों से दिल्ली के स्कूलों की तुलना कर लें। उन्हें समझ आ जाएगा कि बेहतर शिक्षा किसे कहते हैं। यह राजनीतिक हमला ऐसे समय में किया जा रहा है जब दोनों दल विधानसभा चुनाव के लिए तैयारी कर रहे हैं। दिल्ली विधानसभा चुनाव नए वर्ष की शुरुआत में हो सकते हैं।
मनीष सिसोदिया ने रविवार को एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि जेपी नड्डा को अरविंद केजरीवाल सरकार के शिक्षा मॉडल पर हंसी आ रही है। लेकिन अगर वे बीजेपी शासित राज्यों के शिक्षा मॉडल को देखेंगे तो उन्हें रोना आ जायेगा क्योंकि उन राज्यों में शिक्षा की स्थिति बेहद खराब है।
अपने शिक्षा मॉडल को सबसे बेहतर बताते हुए सिसोदिया ने कहा कि वे भाजपा नेताओं जेपी नड्डा और विजय गोयल को चैलेंज देते हैं कि वे किसी भी भाजपा शासित राज्य के सबसे बेहतरीन 10 स्कूल को चुन लें। दिल्ली सरकार अपने सबसे बेहतर दस स्कूलों को चुन लेती है। इसके बाद दोनों दलों के नेता एक दूसरे के स्कूलों का मुआयना करते हैं। उसके बाद बहस करते हैं कि किस राज्य की शिक्षा की स्थिति बेहतर है और किसके राज्य की शिक्षा की स्थिति रोने के काबिल है।
भारतीय जनता पार्टी 21 साल से दिल्ली की सत्ता से बाहर है। नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता के सहारे इस बार वह दिल्ली की सत्ता पर काबिज होने का सपना देख रही है। यही कारण है कि उसके नेता अरविंद केजरीवाल सरकार पर लगातार हमलावर हैं जो अपने शिक्षा और स्वास्थ्य पर किए गए कामों के जरिए सत्ता में वापसी की बात सोच रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *